Saturday , December 15 2018
Breaking News
Home / Home 1 / आपातकाल की सत्यता जानेंगे विद्यार्थी, पाठ्यक्रम में होगा बदलाव: जावड़ेकर

आपातकाल की सत्यता जानेंगे विद्यार्थी, पाठ्यक्रम में होगा बदलाव: जावड़ेकर

जयपुर, 26 जून (हि.स.)। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि स्कूलों व कॉलेजों के पाठ्यक्रमों में आपातकाल के बारे में पढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि बच्चों को इमरजेंसी की जानकारी होनी चाहिए, इसके लिए पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। जावड़ेकर आपातकाल के विरोध में भाजपा की ओर से मंगलवार को मनाए जा रहे काला दिवस के अवसर पर जयपुर में प्रदेश भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 43 साल पहले जो कुछ देश में हुआ वह देश के लोकतंत्र पर काला धब्बा है। इंदिरा गांधी ने सत्ता में बने रहने के लिए आपातकाल का षड्यंत्र रचा। आपातकाल देश की आजादी खत्म करने की साजिश थी। इमरजेंसी का अध्याय भूलना नहीं चाहिए।

जावड़ेकर ने कहा कि आज से 43 वर्ष पूर्व 26 जून, 1975 को भारतीय लोकतंत्र के साथ जो अनर्गल कृत्य हुए, वो लोकतांत्रिक भारत के इतिहास में काले धब्बे के रूप में हमेशा अंकित रहेगा। 150 वर्ष की अंग्रेजों की गुलामी सहने के बाद भारत को आजादी मिली थी और भारतवासियों ने यह सोचा था कि अब हमारे अच्छे दिन आएंगे लेकिन एक व्यक्ति विशेष की सत्तालोलुपता ने भारत के लोकतंत्र पर कुठाराघात करते हुए भारतवासियों की आजादी को आपातकाल लगाकर पुनः खत्म कर दिया था। सत्ता में बने रहने के लिए जेल को जेलखाना बनाया गया। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कांग्रेस में सत्ता का सुख एक परिवार को हमेशा मिलता रहे, वंशवाद आगे बढ़ता रहे, यही कांग्रेस का प्रमुख ध्येय हमेशा रहता है।

भारतीय जनता पार्टी के लिए ‘नेशन फस्ट’ होता है, जबकि कांग्रेस के लिए हमेशा ‘सेल्फ फस्ट’ होता है और सब कुछ सेल्फ ही होता है। आपातकाल लगाकर प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने निरंकुशता के चरम को मूर्त रूप प्रदान किया था। हालात यह हो गये थे कि सरकारी वकील नीरव डे ने यह तक कहा था कि जीने का अधिकार भी अब नहीं है। पत्रकार जगत के लोगों को लिखने एवं बोलने से रोक दिया गया था। जनता पार्टी सरकार ने संविधान में बदलाव किया, जिससे अब आपातकाल कोई सोच कर भी नहीं ला सकता लेकिन आज का दिन लोकतंत्र की प्रतिष्ठा को कायम रखने के लिए प्रतिज्ञा लेने का दिन है। कांग्रेस द्वारा इमरजेंसी पर खेद जताने पर जावड़ेकर ने कहा कि मौखिक खेद जताने से जनता माफ नहीं करेगी।

जावड़ेकर ने बताया कि हमने यह भी तय किया है कि हम पाठ्यक्रम में बदलाव कर आपातकाल की सत्यता के बारे में विद्यार्थियों को भी बताएंगे ताकि इतिहास की सही व्याख्या हो सकें। हमारी शिक्षा पद्धति में कोई मजबूरी नहीं होता है, लेकिन देश को टुकड़े करने वाला विचार अब हमारी शिक्षा में नहीं चलेगा। इमरजेंसी का पूर्ण पाठ पाठ्यक्रम में शामिल होगा, लेकिन पाठ्यक्रम शिक्षाविद ही तय करेंगे। जावड़ेकर ने कहा कि जब भी कांग्रेस आती है तो साथ में महंगाई अवश्य लाती है। महंगाई और कांग्रेस का चोली-दामन का साथ है। अगर हम आंकलन करे तो पायेंगे कि यूपीए की सरकार के समय महंगाई दस फीसदी की दर से बढ़ रही थी और विकास की दर 5 प्रतिशत थी। लेकिन वर्तमान सरकार के कार्यकाल में आज विकास की दर आठ प्रतिशत है और महंगाई वृद्धि की दर पांच प्रतिशत पर आ गई है।

पिछले डेढ़ महीने से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नहीं होने के संबंध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा प्रदेश को भाजपा का नया अध्यक्ष जल्द मिलेगा। जम्मू कश्मीर में भाजपा के पीडीपी से गठबंधन तोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में खंडित जनादेश था। दोनों पार्टियों ने विकास के साझा एजेंडे पर गठबंधन किया था, लेकिन पिछले दो महीने से पीडीपी सरकार नहीं चला पा रही थी, इसलिए हम बाहर आ गए। एक देश एक चुनाव के मुद्दे पर उन्होंने कहा यदि सभी पार्टी विचार करें और सभी पार्टी सहमत हो तो एक देश-एक चुनाव हो सकता है।

इससे देश का ना केवल समय बचेगा साथ ही पैसों की भी बचत होगी। मदरसों को राजकीय सहायता के संबंध में उन्होंने कहा कि अब मॉडल मदरसों का ही राजकीय सहायता दी जाएगी। इसके लिए मदरसों को संपूर्ण जानकारी देनी होगी। जब राजकीय स्कूल और राजकीय संस्थाएं सरकार को पूरी जानकारी दे रही हैं तो मदरसों को भी यह करना होगा।

तिवाड़ी हताश-निराश आदमी एक दिन पूर्व ही पार्टी से इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी के देश प्रदेश में अघोषित आपातकाल लागू होने के आरोपों का खंडन करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि अघोषित आपातकाल जैसी कोई बात नहीं है। हालांकि तिवाड़ी के और आरोपों पर जावड़ेकर ने यह कहते हुए टिप्पणी करने से इंकार कर दिया कि हताश-निराश आदमी के बयान पर मैं कोई बात नहीं करना चाहूंगा। वे भटक गए हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस में उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी और निवर्तमान अध्यक्ष अशोक परनामी भी मौजूद रहे।

About khabarworld

Check Also

पीवी सिंधु का विश्व टूर में जीत से आगाज

Share this on WhatsAppनई दिल्ली/ग्वांग्झू, 12 दिसम्बर (हि.स.)। ओलिंपिक खेल में सिल्वर मेडल विजेता भारत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *